भोपाल/ मध्‍यप्रदेश में गणेश प्रतिमाओं और ताजियों का सार्वजनिक विसर्जन नहीं किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आगामी गणेश उत्सव एवं अन्य त्यौहारों के अवसरों पर कोरोना संक्रमण न फैले इसके लिए आवश्यक है कि हम त्यौहार घर पर ही मनाएं। उन्होंने अपील की है कि कोरोना संबंधी सभी सावधानियां मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग रखने आदि का अनिवार्य रूप से पालन किया जाए।

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि सार्वजनिक स्थलों पर मूर्तियों की स्थापना, ताजिए निकाले जाना आदि पूर्ण रूप से प्रतिबंधित हैं। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए घर पर स्थापित प्रतिमाओं आदि का सार्वजनिक स्थलों पर विसर्जन भी प्रतिबंधित रहेगा। विसर्जन के लिए हर वार्ड/क्षेत्र में ‘कलेक्शन पॉइन्ट्स’ बनाए जाएंगे, जहां पूरे सम्मान एवं पवित्रता के साथ गणेश प्रतिमाओं को एकत्रित किया जाएगा। इसके उपरांत स्थानीय निकाय उन्हें विसर्जन स्थलों पर ले जाकर विसर्जित करेंगे।

मुख्यमंत्री ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की और इस दौरान मुख्‍य सचिव इकबाल सिंह बैंस को निर्देश दिए कि इस संबंध में जिलों को विस्तृत गाइड लाइन जारी की जाए। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग वीडियो संपर्क से जुड़े।

रिकवरी रेट 76.1 प्रतिशत
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट 76.1 हो गया है। एक्टिव मरीजों की संख्या 10 हजार 928 है तथा तुलनात्मक रूप से देश में प्रदेश 16 वें स्थान पर है। प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट 4.47 प्रतिशत है। टैस्ट प्रति दस लाख 13 हजार 788 हैं।
जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि प्रदेश में सर्वाधिक नए प्रकरण इंदौर में 227 आए हैं। इसके बाद भोपाल में 140, ग्वालियर में 121, जबलपुर में 117, बैतूल में 32, राजगढ़ में 29, अलीराजपुर में 27, रतलाम में 27, रीवा में 25 तथा छतरपुर एवं विदिशा में 24-24 नए प्रकरण मिले हैं। शहडोल में गत 7 दिनों की पॉजिटिविटी रेट 6.02 प्रतिशत तथा अनूपपुर की 7.30 प्रतिशत है। इन सभी जिलों पर विशेष ध्यान देने और शहडोल मेंडिकल कॉलेज में चिकित्‍सकों की टीम भिजवाए जाने के निर्देश दिए गए। दमोह जिले पर विशेष ध्यान देने और सीहोर जिले में सैम्पलिंग बढ़ाए जाने को कहा गया।
बढ़ रहा होम आइसोलेशन
प्रदेश में बिना लक्षण वाले कोरोना पॉजीटिव प्रकरणों में होम आइसोलेशन बढ़ रहा है। प्रदेश में अभी 1617 व्यक्ति (15 प्रतिशत) होम आइसोलेशन में हैं। इनमें इंदौर में 692, जबलपुर में 297, भोपाल में 141, ग्वालियर में 124, शिवपुरी में 96, उज्जैन में 74, खरगौन में 44, सतना में 24 तथा शेष अन्य जिलों में होम आइसोलेशन में हैं।
निजी अस्पतालों पर नजर
इंदौर जिले की समीक्षा में बताया गया वहां कई निजी अस्पतालों में भी लोग कोरोना के इलाज के लिए लोग जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने यह सुनिश्चित करने को कहा कि निजी अस्पताल मरीजों से इलाज के लिए अधिक पैसे वसूल न कर पाएं। सभी जिले इसे बात पर ध्यान दें।
इसके साथ ही क्वारेंटाइन सेंटर्स में अच्छी व्यवस्था की जाए। जो व्यक्ति होम क्वारेंटाइन एवं होम आइसोलेशन में है, उनकी निगरानी एंव देखभाल के पूरे इंतजाम हों।
मृत्यु दर में गिरावट
स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्‍त मुख्‍य सचिव सुलेमान ने बताया कि प्रदेश में कोरोना मृत्यु दर निरंतर कम हो रही है। 18 से 21 अगस्त के बीच मृत्यु दर 0.6 प्रतिशत रही। प्रदेश की औसत मृत्यु दर 2.34 प्रतिशत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलों में फीवर क्लीनिक्स को और प्रभावी बनाया जाए, जिससे कोई भी व्यक्ति वहां जाकर आसानी से अपनी स्वास्थ्य जाँच, कोरोना टेस्‍ट आदि करवा सके।