इस कविता पर कुछ भी कहने की जरूरत नहीं है

(यह कविता हमने श्री दिवाकर श्रीवत्‍स के वाट्सएप संदेश से ली है।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here