Posted inमध्यमत विशेष, हेडलाइन

बिल का आना और बिल का लटक जाना… क्‍या है अफसाना!

समझ में ही नहीं आया कि राजस्‍थान सरकार को आखिर क्‍या सूझी कि वह एक आत्‍मघाती बिल लेकर आई। भ्रष्‍टाचार को सरेआम संरक्षण देने वाले जिस बिल के बारे में राजनीति का कोई नौसिखिया भी बता सकता था कि यह कदम अपने पैर पर कुल्‍हाड़ी मारने जैसा होगा उसे इतनी अनुभवी राजनेता वसुंधरा राजे ने […]