भोपाल/ आरोग्य भारती एवं मानसरोवर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्‍स के आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एवं श्री साई इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेदिक रिसर्च एण्ड मेडिसिन, भोपाल के संयुक्त तत्वाधान में हर्षोल्लास के साथ सातवाँ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मानसरोवर परिसर के एम्फी थियेटर में मनाया गया। कार्यक्रम में विधायक रामेश्‍वर शर्मा, आरोग्य भारती के राष्ट्रीय संगठन सचिव डॉ. अशोक वार्ष्णेय, फीस नियामक आयोग के चैयरमेन डॉ. रविन्द्र कान्हेरे, निजी विश्‍वविद्यालय विनियामक आयोग के चैयरमेन डॉ. भरत शरण सिंह, दैनिक भास्कर के प्रतिनिधि आशीष तोमर अतिथि के रूप में सम्मिलित हुए।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक रामेश्‍वर शर्मा ने कहा कि योग एवं आयुर्वेद भारत की धरोहर है, ऋषियों द्वारा दिये गये योग के ज्ञान को आज का विज्ञान भी मानने लगा है। योग के माध्यम से व्यक्ति सौ वर्षों से अधिक स्वस्थ जीवन जी सकता है। डॉ. अशोक वार्ष्णेय ने योग एवं विज्ञान के समन्वय पर सारगर्भित व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा- योग भारतीय जीवनशैली का एक अभिन्न अंग रहा है। डॉ. रविन्द्र कान्हेरे ने कहा कि योग के माध्यम से हम अपने शरीर की क्रियाओं को नियंत्रित कर सकते है एवं पूर्ण स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकते है। डॉ. भरत शरण सिंह ने कहा कि भारत की योग परंपरा ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का नाम किया है।

इसके पूर्व मानसरोवर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स के सी.ई.डी. श्री गौरव तिवारी ने सभी गणमान्य अतिथियों का बिल्व पौधा देकर स्वागत करते हुए कहा कि कोरोना काल में हम सोशल डिस्टेंसिंग के साथ महायोगाभ्यास कर रहे हैं। भारत की योग एवं आयुर्वेद की महान धरोहर को संरक्षित करने के लिए मानसरोवर समूह सदैव ही प्रतिबद्ध है। कार्यक्रम के अंत में मानसरोवर ग्लोबल यूनिवर्सिटी के कुलपति, डॉ. अरुण पाण्डेय ने इस महायोगाभ्यास को सफल बनाने के लिए सभी का आभार व्यक्त किया।

इस महायोगाभ्यास का यू-टयूब, जूम लिंक एवं फेसबुक पर सीधा प्रसारण किया गया, जिसमें हजारों की संख्या में छात्र-छात्राओं एवं आमजन सम्मिलित हुए। योग के प्रति जागरूकता लाने के लिए मानसरोवर ग्रुप ने योग से निरोग के रूप में योग सप्ताह मनाया जिसमें छात्र-छात्राओं के लिए विभिन्न निबंध, पेंटिंग, कविता, रंगोली, शॉर्ट मूवी आदि प्रतियोगितायें रखी गयी थीं, कार्यक्रम में विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं की घोषणा की गई।

कार्यक्रम का प्रारंभ आरोग्य के देवता धन्वन्तरि की पूजा के बाद योग वंदना के साथ हुआ। सम्पूर्ण कार्यक्रम के दौरान कोरोना की गाईडलाइन का पूर्णतः ध्यान रखा गया, कार्यक्रम में फैकल्टी ऑफ आयुर्वेद मानसरोवर ग्लोबल यूनिवर्सिटी के प्राचार्य डॉ. बाबुल ताम्रकार, मानसरोवर आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अनुराग सिंह राजपूत, श्री साई इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेदिक रिसर्च एण्ड मेडिसिन के प्राचार्य डॉ. भारत चौरागढ़े, मानसरोवर डेंटल कॉलेज के डीन डॉ. गुरुदत्त नायक, फैकल्टी ऑफ एग्रीकल्चर के डीन डॉ. संदीप बैनर्जी, फैकल्टी ऑफ पैरामेडिकल के डीन डॉ. जगप्रीत सिंह, फैकल्टी ऑफ फार्मेसी के डीन डॉ. विशाल गुप्ता, मानसरोवर नर्सिंग कॉलेज की प्राचार्या डॉ. रत्ना छाया के साथ-साथ सभी महाविद्यालयों के शिक्षक डॉ. अशोक गुप्ता, डॉ. एन.के. प्रसाद, डॉ. उमापति व्यास, डॉ. अमित जगताप, डॉ. स्वेता जाडे़, डॉ. अमृता जगताप, डॉ. अनुपम चौरसिया, डॉ. प्रमोद, डॉ. राजलक्ष्मी जैन, डॉ. राकेश पाण्डेय, डॉ. सौरभ मेहता, डॉ. रोहित कुमार जैन, डॉ. वैशाली नवलकर, डॉ. परमेश्‍वर राउत, डॉ. विनायक नवनाले, डॉ. रविन्द्र गुंजाल, डॉ. अनिला भार्गव, डॉ. रविन्द्र गुंजाल, डॉ. चंद्रप्रभा, डॉ. अरुणिमा नामदेव, डॉ. दामिनी निर्मल आदि एवं छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. विकास जैन एवं योगाभ्यास का संचालन डॉ. गिरीश शेन्डे एवं डॉ. मुकेश कुमार ने किया। कार्यक्रम में प्रिंट मीडिया पार्टनर, दैनिक भास्कर, वैलनेस पार्टनर डाबर इंडिया एवं रेडियो पार्टनर 94.3 माय एफ एम के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया।